PH Full Form: पीएच क्या है और इसका उपयोग (pH ka full form)

आज का ये आर्टिकल सारे विज्ञान के विद्यार्थियों के लिए बेहद महत्वपूर्ण होने वाला है।  आज मैं इस आर्टिकल के द्वारा ये बताने की भरपूर कोशिश करूंगा कि P. H क्या है, PH का फुल फॉर्म (PH full form), पीएच का मान क्या होता है आदि..

ph full form

PH केमिस्ट्री का ऐसा पाठ है जिससे आने वाली परीक्षाओं में कई सारे सवाल पूछे जाते हैं जो सभी विद्यार्थियों के लिए बेहद महत्वपूर्ण माने जाते हैं। सबसे पहले ये सवाल सभी के मन में आता है कि किसी भी पदार्थ में अम्ल और क्षार की कितनी प्रबलता है? और इस सवाल का पता लगाने के लिए ही P H  स्केल का इस्तेमाल करते हैं। P H स्केल पर 1 से लेकर 14 तक गिनतियां यानी कि अंक दिए रहते हैं।  

और इस इस स्केल में जो 7 अंक होता है वो जल का पीएच मान होता है, जिसे उदासीन पदार्थ कहा जाता है। और जिस पदार्थ का PH 7 से कम हो उस पदार्थ को अमलीय और जिसका 7 से ज्यादा होता है उसको  क्षारिय पदार्थ कहते हैं।

 जो टॉपिक आज हम इस पोस्ट में बताने जा रहे हैं वह नीचे लिखे गए हैं।  

  • P. H  की फुल फॉर्म? (pH full form)
  • P. H का मान क्या होता है? 
  • P. H  के मान का शरीर पर क्या प्रभाव पड़ता है ? 
  • हमारी रोज की जीवन शैली में PH का क्या महत्व है ? 
  • निष्कर्ष 

P. H Full Form – पीएच का फुल फॉर्म

अगर आप p H के बारे में जानना चाहते हैं तो आपको इसकी फुल फॉर्म भी जानने की जरूरत है। इसका पूरा नाम Potential of Hydrogen (हाइड्रोजन की क्षमता) होता है।

यहाँ  तक बात हुई पी एच के पूरे नाम की और मैं आपको बता दूं 1909 नेट पीएच स्केल की खोज सबसे पहले  S. P. L  सॉरेन्सन ने कर दी थी। और अब बात करते हैं कि पीएच स्केल व इसका मान क्या होता है।

PH Scale क्या है?

PH स्केल एक मानक होता है जो पैमाने में एक तत्व  की अम्लता और क्षारीयता की पहचान करने में उपयोग किया जाता है। जिस तत्व का PH मान 7 से नीचे होता है वह अम्लता के स्तर का वर्णन करता है, जबकि 7 से ऊपर और 14 तक PH स्तर, उस तत्व की क्षारीयता को दर्शाती है।

एक पीएच मीटर में एक वोल्टमीटर होता है जिसमें से प्रत्येक एक इलेक्ट्रोड से जुड़ा होता है जो solution में मौजूद होता है। सिल्वर क्लोराइड इलेक्ट्रोड का उपयोग अधिकतर विलयनों में किया जाता है। ये इलेक्ट्रोड बैटरी के रूप में कार्य करते हैं जब वे solution में डूबे होते हैं।

मिट्टी की गुणवत्ता की जांच के लिए बैटरी से चलने वाले पीएच स्केल को खेतों में ले जाया जा सकता है। आप लिटमस पेपर जैसे अन्य विकल्पों के साथ भी परीक्षण कर सकते हैं। परन्तु इस तरीके से परिणाम सटीक नहीं होंगे। यदि उपलब्ध हो तो पीएच स्केल से परीक्षण करना बेहतर होता है।

कृषि में मिट्टी का परीक्षण यह जानने के लिए किया जाता है कि वहां किस प्रकार की फसलें उगाई जा सकती हैं। यदि मिट्टी अम्लीय है, तो केवल चयनित प्रकार की सब्जियां ही बोई जा सकती हैं। अम्लीय मिट्टी बांझ होती है और इसलिए फसलों को उगाने के लिए इसे या तो मीठा किया जाता है या चूने से बेअसर किया जाता है।

 P. H का मान क्या होता है? 

  • देखें दोस्तों किसी बिलियन में मौजूदा हाइड्रोजन आर्यन की सांद्रता का पता करने के लिए एक स्केल की खोज करी गई थी जिसे नाम दिया गया P H स्केल का।  
  • PH स्केल मे जो P सूचक होता है, क्या आपको पता है उसका अर्थ  पुसान्स है? ये शब्द जर्मनी का शब्द है और इस शब्द का मतलब होता है शक्ति पावर ताकत। 
  • अब पी सूचक की बात हो ही गई है तो इसमें एक सूचक H भी होता है जिसका मतलब होता है हाइड्रोजन।
  • जैसे हम लोग किसी चीज को नापने के लिए  इंची टेप का उपयोग करते  है उसी तरह विलियन को नापने के लिए P H स्केल की खोज करी गई थी। 

यहां तक तो हमने बात की पी एच का मान क्या होता है। अब हम आर्टिकल में आगे बढ़ने जा रहे हैं। ये जानने के लिए कि इसका शरीर पर क्या प्रभाव पड़ता है।

 P. H  के मान का शरीर पर क्या प्रभाव पड़ता है? 

  • pH  इसका मतलब पोटैशियम हाइड्रोजन या फिर यूं कहें तो हाइड्रोजन की क्षमता कह सकते हैं।  
  • मैं आपको बता दूं अगर यह पीएच नंबर जितना कम होगा हमारी बॉडी में वह उतना ही एसिडिक होगा।
  • अगर हम बात करें इसके दूसरी तरफ की तो अगर पीएच का अंक जितना अधिक जितना ज्यादा होगा शरीर उतना ही एल्काइन से भरा होगा।  
  • जब हमारे शरीर में ऑक्सीजन का लेवल 7.4  से नीचे की तरफ गिर जाता है फिर शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा कम हो जाती है। 
  • और इस कारण मिनिमम ऑक्सीजन की कमी से बैक्टीरिया वायरस एवं फफूद का डर बढ़ता ही जाता है। 
  • और अगर मैं थोड़ा और डिटेल में बताना चाहूं तो पीएच किसी भी लिक्विड की अम्लीयता एवम  क्षारीयता को दिखाता है यानी कि प्रदर्शित करने का एक मानक कहां जाता है। तो फिर ऐसे में पीएच स्केल का मान जीरो अंक से लेकर 14 अंक तक माता जाता है।  
  • जीरो से 6 तक के पी एच मान वाले जलिय किसी लिक्विड को अमलीय गुणों वाला लिक्विड या पानी कहा माना जाता है।  
  • और इसी के साथ ही अगर पीएच का मान 8 से 14 तक है तो इस बीच पी एच मान वाला  लिक्विड क्षारीय गुणों वाला माना जाता है।

हमारी रोज की  जीवन शैली में पीएच का क्या महत्व है?

  • मैं आपको बता दूं कि इंसानी शरीर में सभी सैलरी प्रक्रिया 7.8 पर है। 
  • जब आप खाना खाते हैं तो आपके पेट में हाइड्रोक्लोरिक एसिड का निर्माण होता है और यह पेट के पीएच को 1 से 3 तक बदल सकता है। 
  • पीएच हमारे भोजन में पोषक तत्व को पचाने में काफी मददगार साबित होता है। 
  • और दांतों को सड़ने की वजह ज्यादातर यह होती है कि हमारे मुंह का पीएच 5.5 से नीचे आ जाता है तो हमारे दांत सड़ने लगते हैं, इनमे कीड़ा लगने लगता है। 

मित्रों यहां तक बात हुई थी हमारी रोज की जीवन शैली में पीएच का क्या रोल है तो अब आप समझ ही चुके होंगे कि पीएच हमारी खाने से लेकर सभी चीजों में कितना महत्व रखता है।

More Important full forms:

Ph Full Form – Conclusion

दोस्तों कुल मिलाकर अब आप पीएच के बारे में समझ ही चुके होंगे। और यह बात तो समझ आ ही चुकी होगी कि हमारे शरीर में भी पीएच का क्या क्या प्रभाव होता है और PH कैसे मापा जाता है, कौन सा पदार्थ अम्लीय है और कौन सा क्षारिय, इसकी खोज किसने की ये सारी बातें मैंने आपको अपने आर्टिकल के माध्यम से बता दी है।

इस लेख में मैंने आपको pH की सारी महत्वपूर्ण जानकारी देने की कोसिस किया है जैसे Ph kya haiPH ka full form (PH full form in Hindi), हमारे सरीर में Ph का क्या महत्त्व है, Ph मान क्या होता है आदि।

अंत में मैं आप से यही कहना चाहूँगा की अगर आपको Ph full form, what is ph in Hindi वाली यह लेख पसंद आया हो तो इसे सोशल मीडिया पे शेयर जरुर करें। अगर आप कुछ कहना या पूछना चाहते हैं तो निचे कमेंट कर सकते हैं।

Related Posts

Leave a Comment

error: Alert: Content selection is disabled!!