25+ Spoken English PDF Ebook Bundle Download

Essay On Cow In Hindi: गाय पर निबंध 200, 500, 1000 शब्दों में

Essay on Cow in Hindi: जैसा की हम सब जानते है की गाय का पूरी दुनिया में बहुत बड़ा महत्व है, लेकिन अगर हमारे देश भारत के संदर्भ में बात की जाए प्राचीन समय से ही यह भारत की इकोनॉमी की नींव साबित हुई है। फिर चाहे वो दूध का मामला हो या खेती में काम आने वाले बैलों का। हमारे भारत में गाय को गौ माता के रूप में मानते है और इनकी पूजा करते है। हमारे देश में गाय माता को और भी नामो से जाना जाता है जैसे सुरभि, कपिला, नंदनी, श्यामा आदि नामो से जाना जाता है। हमारे भारत में गाय को लक्ष्मी का दर्जा दिया जाता है।

Essay On Cow in Hindi

इस लेख में मैं आपको गाय पर निबंध लेखन शेयर कर रहा हूँ। आपने देखा होगा की स्कूल में अक्सर बच्चो को गाय पर निबंध (Essay on cow in Hindi) लेखन का टास्क दिया जाता है। पर सारे क्षात्रो को यह लिखने पे दिकत होती है पर इस लेख को पढने के बाद सारी प्रॉब्लम दूर हो जाएगी।

गाय, हमारे समाज के लिए एक महत्वपूर्ण जीव है जिसका महत्व भारतीय सांस्कृतिक और आर्थिक दृष्टिकोण से हमेशा से ही उच्च रहा है। इस निबंध में, हम गाय के महत्व को और भी गहराई से समझेंगे और उसके आपके जीवन में कितना महत्वपूर्ण योगदान हो सकता है। गाय के प्राकृतिक और सामाजिक महत्व को जानने के लिए इस निबंध को पढ़ना बेहद महत्वपूर्ण हो सकता है।

Contents

Essay On Cow In Hindi: गाय पर निबंध

गाय की उपयोगिता:

कहा जाता है की गाय का दूध औरों जानवरों की अपेक्षा सबसे अधिक प्रोटीन (Protein) वाला पाया जाता है। गाय का दूध दिमाग को तेज और मजबूत बनाने के लिए बहुत उपयोगी होता है खास तौर पे बच्चो ले लिए ज्यादा उपयोगी साबित होता है। दूसरे पशुओं की तुलना में गाय का दूध बहुत मददगार साबित होता है। बच्चों को विशेष तौर पर गाय का दूध पिलाने की सलाह दी जाती है क्योंकि भैंस का दूध जहां सुस्ती लाता है वहीं गाय का दूध बच्चों में चंचलता बनाए रखता है।

यह बीमारों और बच्चों के लिए बहुत ही यूजफुल आहार माना जाता है। इसके अलावा दूध से कई तरह के पकवान बनते हैं। गाय के दूध से दही, पनीर, मक्खन और घी भी बनाता है। गाय का घी और गोमूत्र अनेक ayurvedic medicines बनाने के काम भी काम आता है।

गाय वफादार, घरेलू और मासूम पालतू जानवरों में से एक है। यदि गायों से प्यार किया जाए तो वे इंसानों को हानि नही पहुंचाती हैं। इससे लोग अपने घरों में गाय रखते हैं और तमाम तरह के लाभ प्राप्त करते हैं। वे मनुष्यों के लिए अलग अलग प्रकार से उपयोगी हैं। गायों को पालतू जानवर के रूप में रखने के कई उद्देश्य लोगों के लिए समान हैं चाहे आम लोग हों या चाहे किसान हों। गायों के अलग अलग विशिष्ट लाभ(benefit) हैं जो इस बात पर निर्भर करते हैं कि वे मानव जाति की मदद के लिए किस तरह का काम कर रही हैं।

गाय का गोबर फसलों के लिए सबसे महत्वपूर्ण खाद माना जाता है। गाय के मरने के बाद उसका चमड़ा, हड्डियां व सींग सहित सभी अंग किसी न किसी काम आते हैं। ऐसा माना जाता है कि भैंस का बच्चा दूध पीने के बाद सो जाता है जबकि गाय का बच्चा अपनी मां का दूध पीने के बाद उछल कूद करता है।

गौ माता न सिर्फ अपने जीवन में लोगों के लिए उपयोगी होती है वरन मरने के बाद भी उसके शरीर का हर अंग काम आता है। गाय का चमड़ा, सींग, खुर से डेली जीवनोपयोगी वस्तु तैयार होता है। गाय की हड्‍डियों (Bones) से निर्मित खाद खेती के काम आती है।

साइंटिस्ट ने इसके गुण भी बताए हैं। यह न केवल दूध, दही, मक्खन, पनीर, छाछ या अन्य बल्कि डेयरी उत्पाद भी सभी फायदेमंद होते हैं।  पनीर खाने से आपको Protein मिलता है। गाय का घी खाने से आपकी मजबूती प्राप्त होती है।

आयुर्वेद में इसका बहुत विशाल महत्व है। यदि किसी व्यक्ति को अनिद्रा(sleeplessness) हो तो दो बूंद गाय के घी से ही ठीक कर सकता है। साथ ही यदि आप रात को पैरों के तलुवों पर ghee लगाकर सोते है तो आपको काफी अच्छी नींद आएगी।

गाय के मक्खन का धार्मिक महत्व है। इससे हवन पूजा आदि के लिए प्रयोग किया जाता है।  और हमारे युग और साधु संत कुछ भी करते हों, उन सबके पीछे वैज्ञानिक कारण होता है। जब गाय कुंड में घी और अक्षत (चावल) डालती है तो आग के संपर्क में आने पर सबसे महत्वपूर्ण गैसें निकलती हैं जो पर्यावरण के लिए उपयोगी है।

भौतिक आकार (Physical Appearance):

गाय का स्वभाव बहुत शांत प्रकार का होता है।  गाय पालतू होती है। गाय एक शाकाहारी पशु है।  गाय घास, अनाज, भूसी, केक, भूसी, चोकर, पुल और पेड़ों की पत्तियां आदि चीज ग्रहण करती हैं। गाय पहले चारे को निगल लेती है और फिर उसे थोड़ा सा मुंह में लेकर चबा लेती है जिसे चबाना कहते हैं। गाय एक बार में एक ही बछड़े को जन्म देती है। वह अपने बछड़े से बहुत प्यार करती है।  गाय भी बैठ कर मुँह से चबाती है।

पशुओं में गाय से जायदा सुनहरा और शानदार पशु कोई नही देखने को मिलता इनके जैसे मासूमियत किसी और पशु में देखने को नहीं मिलती।

गाय कई रंगों जैसे सफेद, काला, लाल, बादामी तथा चितकबरी होती है। इसकी दो मासूम आँखें, दो बड़े कान, चार पैर, एक मुँह, एक बड़ी नाक, चार अंग और पीठ पर एक लंबी पूंछ होती है। उम्र और नस्ल के आधार पर इसके सिर पर दो सींग भी हो सकते हैं। गायों के शरीर का आकार आमतौर पर बड़ा होता है जबकि उनका सिर उनके शरीर के आकार की तुलना में अपेक्षाकृत छोटा होता है।

गाय एक मादा शाकाहारी स्तनपायी है। पुरुष को बैल के रूप में जाना जाता है। इसी तरह गाय के मादा बच्चे को Heifer(बछिया) कहा जाता है जबकि गाय के नर बच्चे को बछड़ा कहा जाता है। एक बार बच्चे के जन्म के बाद, बछिया को गाय कहा जाता है। जब कई गायों को एक साथ देखा जाता है तो पूरे समूह को झुंड के नाम से जाना जाता है।

गाय का धार्मिक महत्व (Religious importance of cow):

भारत में गाय को देवी का दर्जा दिया गया है। ऐसी मान्यता है कि गाय के शरीर में 33 करोड़ देवताओं का निवास है। यही कारण है कि Diwali के दूसरे दिन गोवर्धन (Govardhan) पूजा के अवसर पर गायों की विशेष पूजा की जाती है और उनका मोर पंखों आदि से श्रृंगार किया जाता है।

प्राचीन भारत में गाय समृद्धि का प्रतीक मानी जाती थी। कहा जाता है की युद्ध के दौरान सोना, आभूषणों के साथ गायों को भी लूट लिया जाता था। जिस राज्य में जितनी गायें होती थीं उसको उतना ही सम्पन्न और सफल माना जाता है। कृष्ण के गाय प्रेम को भला कौन नहीं जानता। इसी कारण उनका एक नाम Gopal भी है।

श्रीकृष्ण के जीवन में गाय का बहुत महत्व रहा है और उनका बचपन ग्वालों के बीच बीता है। लोग भगवान कृष्ण को गोविंदा और गोपाल कहते थे, जिसका अर्थ है गायों का रक्षक और मित्र। गाय का दूध बच्चों और रोगियों के लिए बहुत उपयोगी होता है। गाय को परिवार के सदस्य की तरह माना जाता है। प्राचीन काल में गायों की संख्या से व्यक्ति की समृद्धि का पता चलता था।

गाय का भोजन (Food):

शाकाहारी और जुगाली करने वाले जानवरों के रूप में गाय घास जैसे ताजा और बेहतरीन अंकुरित अनाज खाना पसंद करती हैं। वे फल, सब्जियां और अन्य शाकाहारी भोजन खाना भी पसंद करते हैं।

गाय का स्वभाव (Habits):

गऊ माता ज्यादातर सामाजिक होती हैं इसलिए समूह में रहना पसंद करती हैं। इन्हें घूमने के लिए खुली जगह पसंद होती है जहां इनके खाने के लिए ढेर सारी घास मौजूद हो। वे मैदानी इलाकों में घूमते हैं और अपने आहार के पूरक के लिए और अपने नवजात शिशुओं के लिए दूध का उत्पादन करने के लिए अतिरिक्त घास के रूप में घास खाते हैं।

गाय का जीवन काल (Lifespan of Cow):

एक गाय का एवरेज lifespan लगभग 15 से 20 वर्ष का होता है। हालांकि dairies और खेतों में गाय मुश्किल से ही चार से छह साल तक जीवित रहती हैं क्योंकि पर्याप्त दूध देने या अधिक परिश्रम करने के लिए अत्यधिक दुर्व्यवहार का सामना करना पड़ता है। एक बार जब दूध का उत्पादन कम हो जाता है या बंद हो जाता है तो ज्यादातर गायों को मांस और चमड़े के लिए बूचड़खानों में बेच दिया जाता है या सड़कों पर घूमने के लिए छोड़ दिया जाता है, जिससे उनके साथ दुर्घटनाएं और मौतें होती हैं।

यह एक कड़वा सच है लेकिन ज्यादातर गायें खुद को कैद में महसूस करती हैं और जीवन भर संघर्ष करती हैं। इसके अलावा आजकल नर बछड़ों को अक्सर मार दिया जाता है या छोड़ दिया जाता है।

Conclusion

मानव समाज के लिए इतनी लाभदायक होते हुए भी गाय की वर्तमान स्थिति बहुत खराब है। आज गायों का मांस दुकानों में बेचा और खाया जाता है। जब गाय दूध देना बंद कर देती है तो उसे काटने के लिए भेज दिया जाता है। गाय का सम्मान करना और उसके जीवन की रक्षा करना हमारा कर्तव्य है।

दुर्भाग्यवश शहरों में जिस तरह पॉलीथीन का उपयोग किया जाता है और उसे फेंक दिया जाता है उसे खाकर गायों की असमय मौत हो जाती है। इस दिशा में सभी को गंभीरता से विचार करना होगा ताकि हमारी आस्था और साथ ही अर्थव्यवस्था के प्रतीक गोवंश को बचाया जा सके। कुल मिलाकर गाय का मनुष्य के जीवन में बहुत महत्व है। गाय आज भी ग्रामीण अर्थव्यवस्था की रीढ़ है।

गाय बहुत ही प्यारा और अच्छा जानवर है और हमें इस प्यारे और अच्छे जानवर का ख्याल रखना चाहिए। हमारे लिए यह शर्म की बात है कि जब गाय दूध देना बंद कर देती है तो उसे छोड़ दिया जाता है। हमें गाय के साथ दया का व्यवहार करना चाहिए और उसकी देखभाल करनी चाहिए। गाय को बचाने के लिए सरकार को अधिक अधिक गौशालो का निर्माण करना चाहिए जिससे गाय आसानी से अपना जीवन पूर्ण कर सके।

Related Articles

Leave a Comment

error: Alert: Content selection is disabled!!