NDRF Full Form – NDRF कैसे बने, योग्यता, परीक्षा, सैलरी की जानकारी

NDRF का पूरा विवरण : एनडीआरएफ क्या है?, NDRF full form, कब हुई इसकी स्थापना, चयन प्रक्रिया, कार्य, सैलरी।

ndrf full form

दोस्तों आज हम एक ऐसे टॉपिक पर चर्चा करने जा रहे है जिसके बारे में शायद आप में से अधिकतर लोगो ने सुना होगा। अक्सर आपने न्यूज चैनलों, मोबाइल और न्यूज पेपर में किसी प्राकृतिक आपदा के आ जाने पर उसमे फंसे लोगो को सुरक्षित निकालने के लिए एनडीआरफ (NDRF) की टीम को रवाना किया गया, ऐसा नाम जरूर सुना होगा।

तो आज हम इसी एनडीआरएफ की टीम के बारे में विस्तार से जानकारी देने जा रहे है कि NDRF का फुल फॉर्म (NDRF ka full form) NDRF क्या है ? इसकी स्थापना कब हुई ? एनडीआरएफ में भर्ती प्रक्रिया, NDRF क्या कार्य करते है ? और इनकी सैलरी कितनी होती है?

NDRF Full Form – NDRF का फुल फॉर्म

NDRF का अंग्रेजी में पूरा नाम “National Disaster Response Force” (NDRF) है। हिंदी में इसे ‘राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल’ कहा जाता है। 

N – National 

D-  Disaster 

R – Response 

F – Force

NDRF क्या है? (What is NDRF in Hindi)

भारत सरकार द्वारा NDRF का गठन देश में आई किसी भी प्रकार की प्राकृतिक आपदा जैसे – बाढ़, भूस्खलन, भूकंप, बादल फटना आदि जैसी आपदाओं के समय वहां फंसे लोगो को निकालकर सुरक्षित स्थान पर पहुंचाने के लिए किया गया।

यानि इस फ़ोर्स पर प्राकृतिक आपदाओं के वक़्त हुई दिक्क्तों को मैनेज करने की होती है। NDRF national Disaster management act 2005 के तहत काम करती हैं। इसके ऊपर भी एक Agency होती है जिसे हम National disaster management Authority कहते है।

इसके हेड Prime Minister of India होते है। यानि इस फ़ोर्स पर प्राकृतिक आपदाओं को मैनेज करने की पूरी जिम्मेदारी होती है। 

NDRF अधिकारियो का एक ऐसा गठन है जिसे बटालियन के नाम से जाना जाता है। NDRF को मुख्यतः 12 बटालियन में बाँट दिया गया है। जिसमे करीब 1149 जवानों की टीम होती है। इसमें अलग-अलग राज्यों के जवान शामिल होते है। जैसे electrician, dog squad, engineering, technicians, medical और paramedics है।

इन सभी को आपदा प्रबंधन की ट्रेनिंग दी जाती है। एनडीआरएफ के अंतर्गत तीन BSF जवान, तीन CRPF जवान, दो इंडियन तिब्बतन बॉर्डर पुलिस जवान (ITBP), दो सशस्त्र सीमा बल जवान (SSB), और दो केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल टीम (CISF) में शामिल होते है। 

एनडीआरएफ Ministry of home affairs के तहत कार्य करती है। जब कभी भी किसी राज्य में कोई प्राकृतिक आपदा होती है तो सबसे पहले उसकी जिम्मेदारी राज्य सरकार की होती है।

लेकिन यदि आपदा से अधिक हानि होती है तब केंद्रीय सरकार मदद करती है। जैसे financial help, Paramilitary force, NDRF team आदि जुटाने में मदद। NDRF के हेड को Director General बोला जाता है। जो कि IPS रैंक के ऑफिसर होते है।

NDRF की ऑफिसियल वेबसाइट है- https://ndrf.gov.in/

NDRF की स्थापना

एनडीआरएफ (NDRF) की स्थापना साल 2005 में हुई थी। NDRF का हेडक्वार्टर अंत्योदय भवन new delhi में स्थित हैं। इस टीम का स्लोगन है Saving life and beyond. एनडीआरएफ गृह मंत्रालय के अधीन होता है।

इसका गठन आपदा प्रबंधन अधिनियम (Disaster Managment Act) 2005 की धारा 44 – 45 के अनुसार किया गया था। यह विधेयक साल 2005 में संसद में पारित किया गया था। इसके बाद भारत के राष्ट्रपति द्वारा साल 2006 में इसे मंजूरी दी गई थी। इसके बाद साल 2006 में NDRF का गठन किया गया। भारत में यह आपदा प्रबंधन अधिनियम का सबसे बड़ा संगठन है। इस संगठन के मुखिया भारत के प्रधानमंत्री होते है।

NDRF के कार्य

एनडीआरएफ भारत सरकार द्वारा गठित एक ऐसा संगठन है। जो देश के किसी भी हिस्से में आयी प्राकृतिक आपदा (Natural Disaster) बाढ़, भूस्खलन, भूकंप, बादल फटना आदि में राहत और बचाव कार्य करती है।

वही प्राकृतिक आपदा में फंसे लोगो को सुरक्षित बाहर निकालना भी NDRF की टीम का कार्य होता है। आइये अब जान लेते है एनडीआरफ के अन्य कार्यो के बारे मे :-

  • देश में आने वाली प्राकृतिक आपदाओं के वक़्त वहां फंसे लोगो को निकालकर उनको सुरक्षित स्थानों पर पहुँचाना होता है। 
  • आपातकालीन स्थितियों का अंदाज़ा लगाकर रोकथाम और बचाव के लिए भूमिका तैयार करना 
  • बाढ़ में फंसे लोगो और शवों को निकालने का भी कार्य NDRF का होता है। एनडीआरएफ की टीम को जल्द से जल्द बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में हेलीकॉप्टर की मदद से भेजा जाता है। इसके बाद एनडीआरएफ की टीम हेलीकॉप्टर द्वारा सीढ़ी की सहायता से उन लोगों को बाढ़ क्षेत्र से निकालकर राहत कार्य शिविर में ले जाती है।
  • आपदा के समय और उसके बाद फंसे लोगो को भोजन और चिकित्सा की सुविधा देना। 
  • एनडीआरएफ की टीम ही प्रभावित क्षेत्र की सरकार को सूचनाएं देती है। 
  • आपदा के बाद शिविरों में रह रहे लोगो को एनडीआरएफ की टीम हर सुविधा उपलब्ध कराती है।

NDRF में कुल कितने Battalions होते हैं?

NDRF कुल 12 बटालियन में विभाजित होती है। जिनमें 3 BSF, 3 CRPF, 2 CISF, 2 ITBP और 2 SSB की Force शामिल होती है। इन तैनाती पूरे भारत के उन राज्यों में की जाती है।  जहां प्राकृतिक आपदा आने का सबसे अधिक खतरा रहता है।

NEOC यानि आपातकाल परिचालन केंद्र द्वारा आपदा की परिस्थितियों का पूर्वानुमान लगाया जाता है, इसलिए यह 24 घण्टे सक्रिय रहती है। आइये जान लेते है इन 12 Battalions की राज्य और पोस्ट अनुसार लिस्ट :-

  • 01 Bn NDRF, गुवाहाटी, असम – BSF
  • 02 Bn NDRF, कोलकाता, वेस्ट बंगाल – BSF
  • 03 Bn NDRF, मुंडली,उड़ीसा – CIFS
  • 04 Bn NDRF, अराकोनम, तमिलनाडु – CIFS
  • 05 Bn NDRF, पुणे,महाराष्ट्र -CIFS
  • 06 Bn NDRF, गांधीनगर, गुजरात -CRPF
  • 07 Bn NDRF, गाजियाबाद, उत्तर प्रदेश – ITBP
  • 08 Bn NDRF, भटिंडा, पंजाब – ITBP
  • 09 Bn NDRF, पटना, बिहार – BSF
  • 10 Bn NDRF, विजयवाड़ा, आंध्र प्रदेश -CRPF
  • 11 Bn NDRF, वाराणसी, उत्तर प्रदेश -SSB
  • 12 Bn NDRF, इटानगर, अरुणाचल प्रदेश -SSB

NDRF में चयन प्रक्रिया

एनडीआरएफ (NDRF) की सबसे प्रमुख बात यह होती है कि इसमें कोई भी भर्ती सीधे नहीं होती है। यानि जो भी छात्र एनडीआरएफ ज्वाइन करना चाहते है उनको पहले 12वीं कक्षा पास करना जरूरी है। उसके बाद ही वो व्यक्ति NDRF के लिए अप्लाई कर सकता है।

12वीं पास करने के बाद आपको इनमे से कोई भी एक जैसे – पेरा मिलिट्री फ़ोर्स, BSF, CRPF, CISF, ITBP, या SSB को ज्वाइन करना होगा। इन सभी फोर्सेज में SSC द्वारा आयोजित कराई जाने वाली GD (General Duty) परीक्षा को पास करना जरूरी होगा.

Selection होने के बाद आपको इनमे से किसी एक चयनित बल में करीब 4 से 5 साल तक अपनी सेवा देनी होगी. इसके बाद आप NDRF बटालियन ग्रुप के लिए आवेदन कर पाएंगे और NDRF बटालियन ग्रुप को दी जाने वाली ट्रेनिंग पूरी करने के बाद आप एनडीआरएफ के के साथी बन सकते है। जिसके बाद आपको प्राकृतिक आपदाओं के वक़्त देश के किसी भी कोने में लोगो की मदद के लिए भेजा जा सकता है।

NDRF की Salary

एनडीआरएफ में अगर सैलरी की बात की जाय तो यह आपकी रैंक और पद के ऊपर निर्भर करती है, कि आप एनडीआरएफ में किस पोस्ट पर है। इसके साथ ही राज्य के अनुसार भी सैलरी का निर्धारण होता है।  आइये जान लेते है किस पोस्ट की कितनी सैलरी होती है :-

– NDRF में सबसे उच्च अधिकारी डायरेक्टर जनरल की सैलरी 67000 – 79000 प्रतिमाह होती है। 

– वही इंस्पेक्टर लेविल के अधिकारी की सैलरी 60000 – 70000 प्रतिमाह होती है। 

– वही एनडीआरएफ के इंस्पेक्टर पद वालो का वेतन 17, 1000 महीने होता है। 

– इसके अलावा NDRF में सबसे निचली पोस्ट कॉन्स्टेबल की सैलरी 8, 460 होती है। 

यह वेतन Allowance मिलाकर बताई गई है। उसी के अनुसार वेतन जारी किया गया है। 

आज आपको हमने इस आर्टिकल में एनआरएफ के बारे में पूरी जानकारी देने की कोशिश की है। अन्यथा इसके बावजूद हमसे कुछ जानकारी यदि छूट गई हो या आपके मन में NDRF को लेकर कोई सवाल हो तो हमे कमेंट सेक्शन में अपना सवाल जरूर बताइयेगा। हम इसको हल करने की पूरी कोशिश करेंगे।

वही अब इस आर्टिकल को पढ़कर समझ ही गए होंगे कि किस तरह आप NDRF में जा सकते है। और कैसे NDRF की टीम हमारी आपदाओं के वक़्त मदद करती है। इन लोगो का काम कितना कठिन होता है। उम्मीद करती हूँ आपको मेरी ये स्टोरी पसंद आई होगी। यदि अच्छी लगी हो तो इसके लाइक और अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें।

More Important full forms:

NDRF full form – Conclusion

तो दोस्तों ये था एक NDRF से जुडी सारी जानकारी। इसक लेख में मैं आपको एनडीआरएफ का फुल फॉर्म (NDRF full form in Hindi) के अलावा ये भी बताया है की NDRF क्या है (what is NDRF), NDRF कैसे बने, NDRF बनने के लिए योग्यता, सैलरी, अन्य सुविधाएं आदि की भी विस्तृत जानकारी दिया है इस लेख में।

दोस्तों NDRF को अनेको सुविधाएँ तो मिलती ही हैं पर भारत में देश के स्तर के अलावा समाज में भी काफी इजत होती है इनकी क्योकि देश के लिए ये बहुत बड़ा योगदान देते हैं।

अंत में मैं आपसे यही काना चाहूँगा की अगर आपको NDRF full form, (NDRF का फुल फॉर्म), NDRF कैसे बने, सैलरी, योग्यता आदि की जानकारी अच्छी लगी हो और आपको इस लेख से कुछ सिखने को मिला हो तो इसे सोशल मीडिया पे शेयर अवश्य करने ताकि अन्य लोग भी NDRF full form in Hindi जान सकें।

Related Posts

Leave a Comment

error: Alert: Content selection is disabled!!