NASA Full Form: नासा क्या है इसका इतिहास (NASA का फुल फॉर्म)

आज़ के समय में तो कुछ लोगो ने चांद पर जमीन ले रखी है। ये सोच कर हैरानी भी होती है और अंदर की अंदर इस बाद की खुशी भी होती है, कि देश में टेक्नोलॉजी कितनी विकसित हो गई है। लोगो पर खोज करने के लिए अंतरिक्ष की उड़ान भर रहे, और वहां की फोटो भी हमारे पास मौजूदा समय में है। आज के ब्लॉग पोस्ट में ऐसे ही एक टर्म NASA से परिचित होंगे। ये असल में अंतरिक्ष से जुड़ा है।

NASA full form in Hindi

हर किसी की दिलचस्पी होती है कि वो ब्रह्मांड को जाने पृथ्वी के बाहर की दुनिया देखने में कैसी लगती है। आकाश को छू लेने का मन हर किसी का होता है।

हर एक देश के पास अपनी एक एजेंसी होती है जो कि अंतरिक्ष से जुड़ी जानकारियां एकत्रित करने का काम करती है। इन्हीं एजेंसियों में नासा भी एक एजेंसी के तहत आती है। इसके जरिए अंतरिक्ष की सूचना को हासिल करके उसे अन्य देशों के साथ भी साझा किया जाता है। आइये इस लेख में NASA का फुल फॉर्म (NASA full form in Hindi), NASA क्या है इसकी स्थापना और इतिहास आदि के बारे में जाने।

NASA full form: नासा क्या है और NASA का फुल फॉर्म

नासा का इंग्लिश में फुल फॉर्म “National Aeronautics and space Administration” है। वही हिंदी में इसका मीनिंग “नेशनल एयरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन” है। ये विश्व की सबसे बड़ी जांच एजेंसी में से एक है। वही इसी को शॉर्ट में नासा कहा जाता है।

आप सभी इससे जहां तक वाकिफ होंगे की ये संयुक्त राज्य अमेरिका की स्पेस एजेंसी है। इसका मूल रूप से गठन राष्ट्रीय वैमानिकी और अंतरिक्ष वैमानिकी को ध्यान में रखते हुए 19 जुलाई 1958 को किया गया था। इसका निर्माण नेशनल एडवाइजरी कमिटी फॉर एयरोनॉटिक्स के जगह पर किया गया था। इसका मुख्य रूप से कार्य अंतरिक्ष कार्यक्रमों और एयरोनॉटिक्स के विषय में रिसर्च करना होता है।

कब और कैसे हुई थी नासा की स्थापना

अंतरिक्ष नासा विश्व की सबसे बड़ी और कामयाब अंतरिक्ष एजेंसी में से एक है। इसके जरिए काफी बड़ी बड़ी खोजें की गई है। वही इसकी स्थापना का जिक्र करें तो 19 जुलाई 1958 में की गई थी। नासा की स्थापना के बाद अमेरिका में अंतरिक्ष में की गई विभिन्न खोज असल में नासा के नेतृत्व में ही होती आई है।

इसी के तहत अपोलो यान  का चांद पर उतरना, स्कायलैब स्टेशन और अंतरिक्ष शटल जैसे बहुत से बड़े- बड़े कार्य इसी में सम्मिलित है। नासा ने अंतरिक्ष के बड़े बड़े ग्रहों और उपग्रहों पर जाकर अपनी सफलता का परचम लहराया है। नासा की खोज से पूरी दुनिया लाभान्वित हो रही। नासा की स्थापना अमेरिका के राष्ट्रपति Dwight D Eisenhower के जरिए की गई थी।

नासा का सारगर्भित इतिहास

साल 1958 के जुलाई यूएस यूएस गवर्नमेंट के जरिए नासा की स्थापना की गई थी। वही इसका मुख्यालय वाशिंगटन डीसी में है। नासा का निर्माण नेशनल एयरोनॉटिक्स एंड स्पेस अधिनियम के जरिए किया गया था। मौजूदा समय में संयुक्त राज्य अमेरिका में दस नासा के केंद्र हैं।

इन सभी केंद्रों में सात केंद्रों में परीक्षण और अनुसंधान की खास सुविधाएं प्रदान की गई है। आपको जानकर दिलचस्प लगेगा कि यहां पर 18000 से भी अधिक लोग कार्यरत हैं। नासा की नौकरी सबसे शानदार नौकरी में गिनी जाती है। यहां पर हजारों की संख्या में इंजीनियर के साथ ही कई लोगों द्वारा अलग-अलग जॉब की जाती है। जो कि खासतौर पर नासा के मिशन में सहायता प्रदान करते हैं। यहां पर सेक्रेटरी ,लेखक, लॉयर और शिक्षक भी कार्यरत है।

नासा ने इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन के निर्माण में कई महत्वपूर्ण भूमिका का बखूबी रूप से निर्वहन किया है। नासा के जरिए ओरियन मल्टीपर्पस क्रू व्हीकल स्पेस लॉन्च सिस्टम और कमर्शियल क्रू व्हीलर्स में भरपूर रूप से सहयोग किया जा रहा है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि नासा की स्थापना के बाद अपने पहले उपग्रह Explore 1  का सफल परीक्षण भी इसी के जरिए किया गया था।

नासा के द्वारा पायनियर की लांचिंग

नासा के जरिए पायनियर 10 को साल 1972 में लॉन्च किया गया था। इसके बाद साल 1973 को पायनियर 11 को लॉन्च किया गया। इसको असल में सौर मंडल को सबसे फोटोजेनिक गैस के लिए लॉन्च किया गया था। ये  सर्वप्रथम बृहस्पति और शनि की यात्रा करने वाले यान के तहत आते थे।

पायनियर 10 के जरिए मंगल और बृहस्पति के मध्य की चट्टानों की परिक्रमा क्षेत्र के बीच यात्रा करने वाली पहली जांच संपन्न की गई थी। इसी के माध्यम से सौर प्रणाली के क्षुद्रग्रह बेल्ट की जानकारी हमें बकायदा प्राप्त हुई थी। पायनियर के लांचिंग के बाद एक वर्ष छह महीने के बाद अंतरिक्ष यान ने बृहस्पति का पहला फ्लाईबाई का निर्माण हुआ था। इसके जरिए ग्रेट रेड स्पॉट की आश्चर्य जनक फोटो हासिल की गई थी।

इसके बाद पायनियर 11 बृहस्पति के उड़ते हुए वो शनि ग्रह पर चला गया। वहां पर इसके जरिए शनि के चारों और अज्ञात छोटे चंद्रमाओं की 1 जोड़ी को डिस्कवर किया गया था। मौजूदा समय में इन दोनों के जरिए डाटा भेजना बंद कर दिया गया है। ये अपने सोलर सिस्टम  के जरिए अंतरिक्ष में यात्रा कर रहे हैं।

नासा से जुड़ी अन्य खास बातें

  • NASA संस्थान के चेयरमैन का नाम जिम ब्रिंडेस्टाइन है। आपको शायद ये नही पता होगा कि अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इनका नाम नॉमिनेट किया था और वही बाद में इनके नाम को अमेरिकन सिनेट ने कन्फर्म किया था।
  • नेशनल एयरोनॉटिक्स एंड स्पेस रिसर्च की आधिकारिक वेबसाइट भी है जहां से आप इससे संबंधित खास जानकारी हासिल कर सकते है।
  • नासा ने पायोनियर उपग्रह को वर्ष 1972 में लांच किया था।
  • नासा के वार्षिक बजट का जिक्र करे तो 17.2 बिलियन डॉलर है ये आंकड़े 2012 में प्राप्त किए गए थे।

ये भी पढ़ें:

NASA Full Form: Conculsion

आपको अंतरिक्ष से जुड़ा टर्म NASA full form in hindi कैसा लगा। चांद ग्रह उपग्रह के बारें में जानना हर किसी की चाहत होती है। इसे को ध्यान में रखते हुए नासा से जुड़ा ये खास ब्लॉग पोस्ट बनाया गया, जोकि आपको बेशक पसंद आया होगा। महज फुल फॉर्म जान लेने से आपकी जानकारी पूरी नही हो जाती। यही वजह है कि ब्लॉग पोस्ट में नासा से जुड़ी बेहद दिलचस्प जानकारी प्रदान की गई।

इस लेख में मैंने आपको IIT की सारी महत्वपूर्ण जानकारी देने की कोसिस किया है जैसे NASA kya haiNASA ka full form (NASA full form in Hindi), नासा का स्थापना कब और किसने किया था, नासा का इतिहास आदि।

अंत में मैं आप से यही कहना चाहूँगा की अगर आपको NASA full form, what is NASA in Hindi वाली यह लेख पसंद आया हो तो इसे सोशल मीडिया पे शेयर जरुर करें। अगर आप कुछ कहना या पूछना चाहते हैं तो निचे कमेंट कर सकते हैं।

Related Posts

Leave a Comment

error: Alert: Content selection is disabled!!